बीएफ दीजिए बीएफ

लड़कों के नंगे फोटो

लड़कों के नंगे फोटो, श्वेता नॉर्मल हुई. सतीश ने उसका गाउन निकाला और शॉपिंग बैग में डाल दिया. सतीश ने अपनी जैकेट से उसकी ब्रा निकाली. श्वेता के हाथ पीछे ले गया और उसकी ब्रा से बांध दिया. सतीश ने पट्टा श्वेता के गले में पहनाया और उसे चलने का इशारा किया. समधि जी - तुम तो हमेशा अच्छी लगती हो बेटी, और इस फोटो में तुम्हारी नाभि तो बहुत उत्तेजक दिख रही है। ऐसी फोटो देख कर शमशेर की हालत ख़राब हो जाती होगी।

जब मैं पूरी तरह से झड़ गया तो उसने मेरा लंड छोड़ा, तौलिया उठाया उससे अपना हाथ पौंछा, मेरी जांघों पर जो मेरा वीर्य गिर गया था उसे तौलिए से साफ़ किया और फिर मेरे माथे को चूम लिया. श्वेता के दोनों हाथों को रस्सी से बांध कर पुल-बार (खींचने के लिए) से लटका दिया. सतीश को व्यायाम करना काफी पसंद है तो सतीश ने पुल अप्स करने के लिए कमरे में ही पुल-अप बार लगवा रखा था. उसे इसी हालत में छोड़ कर सतीश बाथरूम में फ्रेश होने के लिए चला गया.

मै - हाँ बहु।। कल रात पानी निकल के सोया, सुबह तक ज्यादा पानी इकट्ठा हो जाता न। प्लम्बर को बुलाउंगा आज़। लड़कों के नंगे फोटो सामने किचन होने से समधी जी मुझे सिर्फ कमर तक देख पा रहे थे और बहु खिड़की के नीचे होने से छुपी थी।। मैं अपना एक हाथ कमर पर और एक हाथ से बहु के बाल पकड़ कर बोला।।

कुत्ते की ब्लू फिल्म

  1. श्वेता आंख बंद किये, सर हल्का सतीश की तरफ घुमाये हुए वासना के सागर में गोते लगा रही थी. सतीश को उसके आधे लाल होंठ दिख रहे थे. श्वेता का मुँह खुला हुआ था. श्वेता
  2. बहु के मुह से टीस उठने लगी, वो भी उत्तेजित होकर अपना सब्र खो रही थी। वो अपने होठ मेरे मुह के अंदर ड़ालते हुए अपने हाथों से मेरा हाथ पकड़ बूब्स को जोर-जोर से रगड रही थी। लेकिन बहु को इस बात का ख्याल था की कहीं समधी जी ये सब देख न ले, बहु ने सँभालते हुए कहा।। सेक्स मूवी फिल्म वीडियो
  3. मैं यह सब सोच कर रोमांचित भी हो रहा था और तभी बाथरूम के दरवाजे पर जोर जोर से खटखटाने की आवाजें आने लगी. दर्शल मैनेजर अपनी चेयर दूसरी तरफ घुमाकर बैठा होता है। सुखजीत और प्रिया दोनों आकर उसके सामने चेयर पर बैठ जाती हैं। पर उन दोनों को मैनेजर नजर नहीं आ रहा था।
  4. लड़कों के नंगे फोटो...सुखजीत पीछे होती हुई कहती है- नहीं जी, अब अगली बार का प्रोग्राम बनाना ओके... अब मैं जा रही हूँ.. और ये कहकर वो घर आ जाती है। मीता चरणजीत की बात झट से समझ जाता है और फिर वो बोल- भाभी उल्टा सीधा क्या होना, तू कौन सा मुझे कुछ करने देती है..
  5. सतीश- यार अभी तो हम कुछ नहीं कर सकते सिवाए उसपर नजर रखने के, हमे बस ये ध्यान रखना है की प्रिंस उसके साथ कोई गलत हरकत न करे... Din nikal jata hai, aur sham ho jati hai. Ab Sukh ka park jane ka time ho gya tha. Isliye wo apne ghar dalne wale salwar aur kameej dalkar park ke liye nikal jati hai. Suit ke niche Sukh ne bra nhi dali thi. Isliye uske boobs jor jor se uchal rhe the. Aur uske chuttaro ki toh baat hi alag hoti hai.

आधार कार्ड ओपन पासवर्ड

सतीश के बैठते ही भारती उसे खाना लगाती है और वो भारती को ही देख रहा होता है, उसे भारती की आँखों मे ग़ुस्से की जगह अपने लिये प्यार और केयर के मिले जुले भाव नजर आ रहे थे...

इतनी बात करने के बाद थोड़ी देर मुख्तार शांत रहता है, दूसरी तरफ से कुछ देर सुनाने के बाद उसने कहना शुरू किया, दोपहर के टाइम हरपाल घर आ जाता है। हरपाल के चेहरे पर बहुत खुशी नजर आ रही थी। सुखजीत ये देखकर थोड़ी हैरान हो जाती है, क्योंकी हरपाल आज दोपहर को ही घर आ गया था।

लड़कों के नंगे फोटो,उस जवान लड़के का नाम गगन होता है, और गगन आई.सी.आई.सी.आई. बैंक का मैनेजर होता है साथ के शहर में। दिखने में गगन ऊंचा लंबा 6 फूट का हट्टा-कट्टा लड़का होता है। उसकी पाचवी पेग खुल्ली डैडी और रोबदार कुंदिया मुचा उसकी पूरी शान बना रही थी।

सोनाली उसके हाथ से गिलास लेते हुये- क्या बात है आज बड़ी केयर कर रहा है अपनी इस बूढी माँ की...........

श्वेता टांगें चौड़ी करके गांड उचकाए स्लैब के सहारे झुकी थी. श्वेता इस हालत में थी कि हिल डुल भी नहीं सकती थी. हिलने डुलने पे उसे असहनीय पीड़ा होती. सतीश ने आगे जाके उसके निप्पल को फिर से भींच लिया. श्वेता फिर से दर्द से चिल्ला उठी, उसने आहह आह आह.. करके दांत भींच लिए. श्वेता की आंखों में आंसू आ गए.समाचार राजस्थान पत्रिका

सतीश भी उसके स्पर्श का मज़ा लेते हुए उससे रोमांटिक बातें करने लगा और घर जाने के लिए सतीशने लम्बा वाला रास्ता पकड़ लिया ताकि इस रोमांटिक समय को और ज्यादा देर तक एन्जॉय किया जा सके, शिप्रा- आआह्ह्ह्ह भेया... हम्म्म भाई खूब प्यार करो अपनी बहन से.... आआईईई पर थोड़ा आराम से में कही भागे थोड़े ही जा रही हु...

Fir Sukh kafi himmat karke uthti hai, aur wo apne kapade dhund kar bahot mushkil se dalti hai. Fir Sukh sidha bahar ja kar car ke pass jati hai, car me wo bhayia soya hua hota hai. Sukh use uthate hue boli.

मलिक का नाम पढ़ते ही रीत के चेहरे पर स्माइल आ जाती है और वो रिप्लाइ करती है- अच्छा अच्छा सीधा सीधा नहीं बता सकते थे, इतना घुमाने की क्या जरूरत थी?,लड़कों के नंगे फोटो नज़र क्या मिली जनाब तनु दिदी से ज्यादा खूबसूरत थी वह! थोड़ी भीड़भाड़ थी या वह कुछ ज्यादा व्यस्त थी कि उस का ध्यान मुझ पर ज्यादा नहीं गया.

News